Monthly Archives: सितम्बर 2011

मन की अशांति

मन की अशांति (agitation) को नियंत्रण में करने, एक सांचे में ढ़ालने या उसके ऊपर कुछ क्रिया करने की कोशिश अशांति को दबाना या बढ़ाना है। Y V Chawla Advertisements

psycho spiritual में प्रकाशित किया गया | Tagged , | टिप्पणी करे

ज्ञान की पराकाष्ठा

किसी भी दिशा में आरामपूर्वक और होशपूर्वक किया गया कोई भी कार्य आध्यात्मिकता और ज्ञान की पराकाष्ठा है। हम इस तरह कार्य करते हैं जैसे परिणाम या कल का आराम हमें विवशता, चुनाव, दुविधा, अनिश्चितता के प्रतिरोध से बाहर ले … पढना जारी रखे

psycho spiritual में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

आपकी पसंद

क्या आप इस बिंदु तक पहुंच सकते हो कि आप गलत उसको कहते हो जो आपकी पसंद से मेल नहीं खाता? क्या आप इस बिंदु तक पहुंच सकते हो कि आप ठीक उसको कहते हो जो आपकी पसंद से मेल … पढना जारी रखे

psycho spiritual में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

कर्म और विवशता

हम विवशता में कर्म करते हैं जैसे कि कल या परिणाम विवशता को समाप्त कर देगा | मन इस भ्रम में रहता है कि कल, भविष्य या परिणाम का आराम ठहर जायेगा। कर्म विवशता बन जाता है। इस बात का … पढना जारी रखे

psycho spiritual में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे