स्वाद का विचार

इन्द्रियाँ भौतिक वस्तुओं के स्वाद का आनंद उठाती हैं, जो कि प्राकृतिक है | यह आपको कभी नहीं बांधेगा। जब वह चीज़ नहीं होगी तो आनंद भी नहीं होगा।
केवल स्वाद का विचार ही आपको बांधता है। स्वाद के विचार का आनंद क्यों न लिया जाए? आप इसका आनंद ले सकते हो, परंतु सावधान, यह मात्र आपके नकारने की स्थिति से संबंधित है। स्वाद के विचार से आनंदित होने के लिए आपको बार-बार स्वयं को नकारात्मक स्थिति में लाना होगा।
यह सभी अनुभवों पर लागू होता है।
इस बात का आपके ध्यान में आना आपको स्वचालित मूल से मिला देता है।

Y V Chawla
Fundamental Expressions on the Facebook

Advertisements

About yvchawla

http://www.fundamentalexpressions.com
यह प्रविष्टि psycho spiritual में पोस्ट और , , टैग की गई थी। बुकमार्क करें पर्मालिंक

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s