Monthly Archives: जुलाई 2012

विचार की दुविधा

‘क्या करना चाहिये’ या ‘क्या नहीं करना चाहिये’ विचार की दुविधा है। मन ‘क्या करना चाहिये’ या ‘क्या नहीं करना चाहिये’ के द्वारा आराम, संतुष्टि की तलाश में रहता है। यह आराम ही भ्रम है। ’करना’ या ‘ना करना’ पूर्णता … पढना जारी रखे

psycho spiritual में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

साम्यावस्था का आनंद

जब तक आपके कार्य विवशता, ‘करना चाहिये’ और मनोरंजक, आरामदायक (चाहे वो आध्यात्मिक ही क्यों न हों) में बंटे हुये हैं, आप मूल को नहीं छू सकते। आप साम्यावस्था के आनंद को नहीं जान सकते। Y V Chawla

psycho spiritual में प्रकाशित किया गया | Tagged , , | टिप्पणी करे

ज्ञान की पराकाष्ठा

किसी भी दिशा में आरामपूर्वक और होशपूर्वक किया गया कोई भी कार्य आध्यात्मिकता और ज्ञान की पराकाष्ठा है। हम इस तरह कार्य करते हैं जैसे परिणाम या कल का आराम हमें विवशता, चुनाव, दुविधा, अनिश्चितता के प्रतिरोध से बाहर ले … पढना जारी रखे

psycho spiritual में प्रकाशित किया गया | Tagged , , | टिप्पणी करे