Monthly Archives: जुलाई 2013

स्थिर आराम और संतुष्टि

जब आपको कोई वस्तु या धन मिलता है, यह संतुष्टि कुछ समय तक रहती है, जब कि वह वस्तु या धन अभी भी आपके पास है। मन को चलने के लिये, जीवित रहने के लिये नया तनाव, नया संवेग चाहिये। … पढना जारी रखे

psycho spiritual में प्रकाशित किया गया | Tagged , , | टिप्पणी करे

दुविधा, बेचैनी और स्वचालित मूल

किसी तुरंत शारीरिक खतरे के अतिरिक्त सभी समस्याएं मानसिक (psychological) ही हैं। मन इस भ्रम में आ जाता है जैसे कि बाहरी तथ्यों या वस्तुओं, संबंधों को ठीक करके यह प्रसन्न, संतुष्ट, स्पष्ट हो जायेगा। किसी भी समस्या के कारण … पढना जारी रखे

psycho spiritual में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

मूल का स्पर्श

 

छवि | Posted on by | टिप्पणी करे