Monthly Archives: सितम्बर 2015

नापसंद परिस्थिति की बेआरामी से भागना

आप किसी नापसंद परिस्थिति को अनदेखा कर सकते हैं या उससे भाग सकते हैं लेकिन आप उस बेआरामी से जो यह परिस्थिति आपके अंदर उत्पन्न कर रही है, से नहीं भाग सकते| आप मूल धरातल पर हैं| Y V Chawla … पढना जारी रखे

psycho spiritual में प्रकाशित किया गया | Tagged , | 1 टिप्पणी