मूल प्रतिरोध और स्वचालित धरातल

मूल प्रतिरोध, जिससे जीवन चलायमान रहता है, को देख कर, जान कर आप मूल धरातल को छू लेते हैं| मन इस प्रतिरोध को टाल कर प्रसन्न होता रहता है| टालना, यह सोच कर होता है- अभी विवशता है, कल सब ठीक हो जाएगा या संतोषजनक हो जाएगा; किसी ने जीवन के प्रतिरोध को हल कर लिया है; वस्तुओं, संबंधों की अधिकता के द्वारा, धार्मिक, आध्यात्मिक विचारों या क्रियाओं के द्वारा स्थिर अनुभव या स्थिर आराम पाया जा सकता है| इस टालने को देखना ऊर्जा के द्वार खोला देता है|

d47
कोई भी उपदेश या क्रिया जो यह वायदा करते हैं की आपको स्थिर आराम, स्थिर प्रसन्नता मिल जाएगी-आपको मूल से दूर कर देते हैं| मन विषमताओं के द्वारा ही कार्य करता है| वस्तुओं की अधिकता से, ज्ञान के द्वारा या किसी अभ्यास से आप मानसिक तौर पर सुरक्षा, निश्चितता को नहीं बांध सकते| इस तथ्य पर ध्यान देने से आप स्वचालित धरातल पर आ जाते हो जहां अनिश्चितता, इच्छा आपकी इच्छा की पूर्ति, निश्चितता को प्रतिरोध प्रदान करते हैं| आप पूर्ण धरातल पर हैं|

Y V Chawla

Advertisements

About yvchawla

http://www.fundamentalexpressions.com
यह प्रविष्टि psycho spiritual में पोस्ट की गई थी। बुकमार्क करें पर्मालिंक

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s