क्या जीवन में आध्यात्मिक होना ज़रूरी है?

जब आपको, जो हो रहा है या जो आपको परेशान कर रहा है, उसका कोई बुद्धिसंगत, तर्कसंगत, संतोषजनक उत्तर नहीं पाते हो-तो आप भगवान के विचार या किसी और सिद्धांत को अंतिम मानकर, उसकी तरफ आकर्षित हो जाते हो| यह मन के लिये आरामदायक है| क्या मन को इतना सक्रिय किया जा सकता है कि वो इस आराम को नकार दे| यह सक्रियता आपको, ‘जो है’ उसके सामने ला खडा़ कर देती है| मन एक परिवर्तित आयाम में आ जाता है| आप स्वयं को अस्तित्व के पूरे क्षेत्र के रूप में देख लेते हैं|

IMG_0454

https://bit.ly/3cCt6jf

Y V Chawla

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s